news-details
lifestyle

चुकंदर कम करता है वजन और हाई ब्लड प्रेशर,ये हैं इसके खाने के फायदे 

चुकंदर मीठी जड़ वाली सब्जी है जिसका स्वाद हर किसी को पसंद नहीं आता है. चुकंदर सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है. इसके गुणों की वजह से ही इसे सुपरफूड भी कहा जाता है. चुकंदर का जूस भी शरीर को कई तरीके से फायदा पहुंचाता है. आइए जानते हैं इसके बारे में.

यह भी पढ़ें : WHO की चेतावनी, फिजिकली एक्टिव नहीं रहे तो दूसरी महामारी के हो सकते हैं शिकार

ब्लड प्रेशर कम करता है- चुकंदर का जूस हाई ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद करता है. शोधकर्ताओं ने पाया है कि जो लोग रोजाना 250 मिलीलीटर चुकंदर का जूस पीते हैं, उनका सिस्टोलिक और डायस्टोलिक ब्लड प्रेशर दोनों कम होता है. चुकंदर के रस मे नाइट्रेट होता है जो रक्त वाहिकाओं को फैलाता है जिससे खून का दबाव कम पड़ता है. 

मांसपेशियों की शक्ति बढ़ाता है- चुकंदर में प्राकृतिक तौर पर नाइट्रेट होता है जो शरीर की मांसपेशियों को मजबूत बनाता है. 2015 की एक स्टडी से पता चला है कि हार्ट फेल की शिकायत वालों ने चुकंदर का जूस पीने के बाद 2 घंटे बाद मांसपेशियों की शक्ति 13 फीसदी तक बढ़ जाने का अनुभव किया.  

डिमेंशिया में कारगर- चुकंदर का जूस डिमेंशिया की बीमारी में बहुत कारगर है. 2011 की एक स्टडी के अनुसार, चुकंदर में पाया जाने वाला नाइट्रेट बुजुर्गों के मस्तिष्क में रक्त प्रवाह बढ़ाने का काम करता है जिससे यादाश्त सही रहती है. 

वजन करता है कंट्रोल- चुकंदर के जूस में कैलोरी बहुत कम होती है और फैट बिल्कुल भी नहीं होता है. ये वजन को बढ़ने नहीं देता है. सुबह की शुरूआत चुकंदर के जूस से करने से आप पूरे दिन एक्टिव रहते हैं.

कैंसर से बचाता है- चुकंदर के जूस में बेटालेन (Betalain) होता है जो एक घुलनशील एंटीऑक्सीडेंट हैं. 2016 की एक स्टडी के अनुसार, बेटालेन में कीमो-निवारक प्रभाव होते हैं जो कैंसर की घातक कोशिकाओं को फैलने से रोकते हैं. बेटालेन फ्री रेडिकल्स पर भी काम करता है.

यह भी पढ़ें : ये 5 चीजें आपके रिश्ते में ला सकती हैं दरार, न करें भूल कर भी ये गलतियां

पोटेशियम का अच्छा स्रोत- चुकंदर का जूस पोटेशियम से भरपूर होता है जो तंत्रिकाओं और मांसपेशियों को ठीक से काम करने में मदद करता है. सही मात्रा चुकंदर का जूस पीने से शरीर में पोटेशियम का स्तर अच्छा बना रहता है. शरीर में पोटेशियम कम होने से थकान, कमजोरी और मांसपेशियों में ऐंठन होने लगती है. पोटेशियम ज्यादा कम हो जाने पर दिल की बीमारियों का भी खतरा बढ़ जाता है.

You can share this post!

0 Comments

Leave Comments