news-details
lifestyle

इन 11 लक्षणों से जानें आप कोरोना की चपेट में हैं या नहीं 

डेस्क : देशभर में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। इससे होनेवाली मौतों का आंकड़ा भी हर दिन बढ़ रहा है। हालंकि राहत की बात यह है कि पहले से उपलब्ध दवाओं के जरिए बड़ी संख्या में मरीज ठीक होकर अस्पताल से घर लौट रहे हैं। पिछले कुछ दिनों में फेबिफ्लू, डेक्सामेथासोन जैसी दवाएं भी आई हैं, जो कोरोना के इलाज में कारगर साबित हो रही हैं। वहीं, दूसरी ओर इसकी वैक्सीन को लेकर भी अच्छी खबरें आ रही हैं। कोरोना की रफ्तार रोकने में सबसे बड़ी चुनौती इसकी पहचान और जांच करना है। देश के सभी नागरिकों की जांच संभव नहीं है। ऐसे में लक्षणों के आधार पर तय किया जा रहा है कि किन लोगों की जांच की जाए। 

यह भी पढ़ें : इन आसान तरीकों से अपने घर में ही दीजिए अपनी आईब्रो को सही आकार

भारत में राहत की बात ये है कि यहां कोरोना संक्रमितों के ठीक होने की दर भी तेजी से बढ़ रही है। वहीं दूसरी ओर समय के साथ कोरोना वायरस का म्यूटेशन भी होता रहा है यानी यह वायरस अपना रूप बदलता रहा है और इसी के साथ कोरोना संक्रमण के लक्षण भी लगातार बढ़ते जा रहे हैं। अमेरिका की स्वास्थ्य एजेंसी सीडीसी हो या ब्रिटेन की स्वास्थ्य एजेंसी एनएचएस, सभी ने समय के साथ कोरोना के नए लक्षणों को इसमें जोड़ा है। भारत में भी केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने कोरोना वायरस के 11 लक्षणों की सूची जारी की है। 

कोरोना वायरस के लक्षण
कोरोना संक्रमण की शुरूआत में इसके चार ही लक्षण सामने आए थे। ये चार लक्षण थे, 
तेज बुखार 
सूखी खांसी, 
गले में खराश होना 
सांस लेने में तकलीफ होना

जैसे-जैसे कोरोना संक्रमण बढ़ता जा रहा है, इसके लक्षणों की संख्या भी बढ़ती जा रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने कोरोना के 11 लक्षणों को आधिकारिक तौर पर शामिल किया है। पूर्व के चार लक्षणों के अलावा ये नए लक्षण शामिल किए गए हैं
बदन दर्द, सिर दर्द, थकान, 
ठंड लगना या ठिठुरना, उल्टी आना 
दस्त, बलगम में खून आना

यह भी पढ़ें : कोरोना से जंग में काढ़ा जरूरी,लेकिन अति से हो सकते है यह नुकसान 

इससे पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने गंध या स्वाद महसूस न होने को भी कोरोना के प्रमुख लक्षणों में शामिल किया है। डब्ल्यूएचओ समेत दुनियाभर के वैज्ञानिक, शोधकर्ता और चिकित्सक कोरोना वायरस के अन्य लक्षणों की पहचान और अध्ययन करने में जुटे हुए हैं। कोरोना वायरस का म्यूटेशन यानी रूप बदलना भी वैज्ञानिकों और चिकित्सकों के लिए चुनौती बना हुआ है।

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से कोरोना वायरस से बचाव के उपायों के बारे में भी लगातार लोगों को जागरुक किया जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से इन उपायों में 15 जरूरी टिप्स को शामिल किया गया है। 

बचाव के लिए इन बातों का रखें ध्यान
उचित दूरी रखते हुए दूसरों का अभिवादन करें
सार्वजनिक स्थानों पर दो गज (6 फीट) की दूरी रखें
दोबारा प्रयोग होने वाला घर पर बना मास्क या फेस कवर प्रयोग करें
बिना वजह आंख, नाक व मुंह को छूने से बचें
श्वसन क्षमता बनाए रखें, बार-बार हाथ धोएं
तंबाकू उत्पादों का सेवन न करें
अक्सर छूई जाने वाली सतहों को नियमित साफ करें, कीटाणु रहित रखें

इन व्यवहारों को अपनी आदत में शामिल करें
अनावश्यक यात्रा न करें, भीड़-भाड़ वाली जगहों पर न जाएं
आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड कर एक्टिव रखें
सार्वजनिक स्थानों पर न थूकें
संक्रमित या देखभाल में जुटे लोगों से भेदभाव न करें
विश्वसनीय सूचनाओं पर ही भरोसा करें 

कोई भी लक्षण होने पर केंद्र की टोल फ्री हेल्पलाइन 1075 या राज्य की हेल्पलाइन पर संपर्क करें। इसके साथ ही मानसिक तनाव या परेशानी होने पर मनोवैज्ञानिक सहायता सेवाओं की मदद लेने की भी सलाह दी गई है।

कोरोना संक्रमण से तेजी से ठीक हो रहे हैं लोग
कोरोना वायरस का बढ़ता संक्रमण चिंता का सबब बना हुआ है, लेकिन राहत की बात यह है कि देश में कोरोना से रिकवरी की दर भी तेजी से बढ़ी है। कोरोना संक्रमण से ठीक होनेवाले मरीजों का प्रतिशत भी बढ़ रहा है। पहली बार लॉकडाउन की घोषणा के समय 25 मार्च 2020 को कोरोना मरीजों की रिकवरी दर 7.10 फीसदी थी। 15 अप्रैल 2020 को रिकवरी रेट बढ़कर 11.42 फीसदी, तीन मई को बढ़कर 26.59 फीसदी, 18 मई को 38.29 फीसदी, 31 मई को 47.76 फीसदी और 15 जुलाई 2020 को रिकवरी रेट 63.24 फीसदी पहुंच चुकी है। 

You can share this post!

0 Comments

Leave Comments