news-details
lifestyle

कोरोना से ठीक हो रहे मरीज फिर से अस्पताल के चक्कर लगाने पर मजबूर

कोरोना से ठीक हो रहे मरीजों को इन दिनों एक नई समस्या से जूझना पड़ रहा है। मरीजों के दिल और फेफड़ों में वायरस का असर दिख रहा है। आपको बता दें कि अस्पताल में ज्यादा लंबे समय तक वेंटिलेटर पर रहे मरीजों में ऐसे असर ज्यादा देखने को मिल रहे हैं। डॉक्टरों के मुताबिक, ओपीडी में अब हाल ही में कोरोना से ठीक हुए मरीज अब नई परेशानियों के साथ अस्पताल आ रहे हैं।

यह भी पढ़े : अगर आपकी इम्युनिटी सिस्टम है कमजोर, तो अपनी डाइट में इन चीजों को करें शामिल

फेफड़ों में घट रहा ऑक्सीजन का स्तर 

गौरतलब है कि कई वैज्ञानिक शोध यह बता चुके हैं कि यह वायरस, फेफड़ों के अलावा मस्तिष्क, गुर्दा व दूसरे बड़े अंगों पर भी लंबे वक्त तक असर डालता है। अपोलो अस्पताल के विशेषज्ञ एस चटर्जी के अनुसार, कई ठीक हो चुके कोविड मरीजों में चार से पांच सप्ताह तक हल्का बुखार बना रहता है। मुंबई के सैफी अस्पताल के एस. चटर्जी का कहना है कि कई ठीक हो चुके मरीजों में अब लंग फाइब्रोसिस के लक्षण दिख रहे हैं। उनके पास ऐसे 25 मरीज हैं जिनके फेफड़ों में ऑक्सीजन का स्तर घटने लगा है। इस बीमारी के असर को ठीक किया जाना फिलहाल संभव नहीं है। 

यह भी पढ़े : इन आसान तरीकों से अपने घर में ही दीजिए अपनी आईब्रो को सही आकार

शरीर में हो रहीं नई बिमारियां 

कई मरीजों को लंबे वक्त तक दस्त व पेट से जुड़ी परेशानियां महसूस हो रही हैं। मगर सबसे चिंता की बात यह है कि कुछ मरीजों के हृदय के ऊतकों में इंफ्लेमेशन के लक्षण दिख रहे हैं। वहीं, कुछ मरीज ऐसे हैं, जिनमें बॉडी पोश्चर से जुड़े ब्लड प्रेशर की समस्या विकसित होने लगी है।

You can share this post!

0 Comments

Leave Comments