news-details
analysis

बीजेपी और कांग्रेस के बीच किसान बना फुटबॉल - सरदार वी एम सिंह 

बॉलीवुड में कितने लोग नशा करते हैं इससे किसी को कोई फ़र्क़ नहीं पड़ेगा लेकिन सभी अनाज खाते है और उसी अनाज के लिए पूरे देश के अन्नदाता सड़को पर है और एक बार ‘अन्नदाता फिर फुटबॉल बन गया है’ ये कहने वाले कोई और नहीं बल्कि सरदार वी एम सिंह है जो की गैर राजनितिक संगठन राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष है पूरे देश के किसानो को एकजुट करने वाले वी एम सिंह किसानो के लिए कई सालो से संघर्ष करते आ रहे है किसानो का कोई भी मुद्दा हो वी एम सिंह हमेशा खड़े रहते है। 

यह भी पढ़ें : खाकी के बाद अब खादी पहनेगे बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय

सरकार ने हाल ही में खेती को लेकर तीन अध्यादेश पारित किए हैं जो भारत में खेती के चेहरे को बदल सकते हैं। पहला अध्यादेश कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग के लिए दरवाजे खोलता है, दूसरा आवश्यक वस्तु अधिनियम में परिवर्तन करता है जिससे दालें, अनाज, तेल के बीज, खाद्य तेल, प्याज और आलू को निष्क्रिय कर दिया गया है और अंत में तीसरा अध्यादेश किसानों को अपनी उपज  देश में कहीं भी बेच सकता है, और यह अध्यादेश MSP न्यूनतम समर्थन मूल्य को प्रभावी ढंग से समाप्त कर सकता है। देश भर के किसान इन अध्यादेशों का विरोध कर रहे हैं और कह रहे हैं कि ये अध्यादेश छोटे और मध्यम किसानों को तबाह कर देंगे और ये अध्यादेश केवल बड़े कॉर्पोरेट की मदद के लिए पेश किए गए हैं इस पर भी सरदार वी एम सिंह ने अपनी आवाज़ उढ़ाते हुए पुरे दश के किसानो को एक मंच पर लेन का काम किया है। 

सरदार वी एम सिंह का कहना है की  ये विधेयक कृषि क्षेत्र को कार्पोरेट के हाथों में सौंपने की कोशिशों का हिस्सा हैं.  इसे लेकर किसानों ने तीन दिन का रेल रोको आंदोलन शुरु किया जिसके बाद  किसानों का देश-व्यापी विरोध प्रदर्शन जारी है कृषि बिल के विरोध में कई राज्यों के किसान लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं बिल के विरोध में शुक्रवार यानि 25 सितम्बर को किसानों ने 'भारत बंद' बुलाया और अब कृषि कानून के खिलाफ लड़ाई  लगातार जारी है  26-27 नवंबर को किसान दिल्ली का घेराव करेंगे। 

अन्नदाताओ  को उनके अधिकारों से वंचित नही रखने वाले सरदार वीएम सिंह लगातार किसानो की आवाज़ को बुलंद करते जा रहे है और किसानो के हक़ के लिए एक बार नहीं बल्कि हर बार आवाज़ उढ़ायी है वही जब पुरे में देश व्यापी तालाबंदी की गयी थी तो भी  सरदार वी ऍम सिंह ने पीएम को  पत्र लिखा और कहा – लोकडाउन में किसानों को कोई तकलीफ न हो इतना ही नहीं संकट की घड़ी में वीएम सिंह ने CM योगी आदित्यनाथ को लिखा पत्र, किसानों की समस्याओं से अवगत भी कराया। 


यह भी पढ़ें : जानें कौन है सुजीत पांडेय जिन्होंने लखनऊ और नोएडा में कमिश्नर सिस्टम लागू किया

वी एम सिंह ने कहा  25 सितंबर को पहली बार किसानों ने देशव्यापी भारत बंद किया। 28 सितंबर को हमने अपील की थी कि युवा शहीद भगत सिंह की प्रतिमा के सामने ये संकल्प लें कि जब तक इन कानूनों को वापस करा कर ही दम लेंगे। और अब वी एम सिंह की ये अपील सरकार से है और किसानो की समस्या को सरकार तक पंहुचा कर वी एम सिंह किसानो के मसीहा के रूप में सामने आ रहे है। 

You can share this post!

0 Comments

Leave Comments