news-details
analysis

जानिए रघुराज प्रताप सिंह से राजा भैया बनने तक की कहानी

प्रतापगढ़ के कुंडा का नाम लेते ही लोगों के जुबान पर जो सबसे पहला नाम आता है वह है राजा भैया, कुंडा के लोगों द्वारा यूपी के विधायक और प्रतापगढ़ के भौदारी स्टेट के राजा रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया के लिए 1 लाइन कहीं जाती है कि जहां से कुंडा की सीमा शुरू होती है वहां से राज्य सरकार की सीमा समाप्त हो जाती हैं।

यह भी पढ़ें : World Youth Day : पीएम मोदी का युवाओं को संदेश- वक्त के हिसाब से स्किल में बदलाव करना जरूरी

राजा भैया के बारे में कहे जाने वाले किस्सों की जो इलाके में लोगों की जबानजद है इसकी वजह उनका खौफ हो या जनता में अपने राजा के लिए प्यार यह तो नहीं कहा जा सकता लेकिन चप चप राजा भैया चुनाव लड़े आज तक उनको हार का मुंह नहीं देखना पड़ा उन्होंने कभी किसी पार्टी का सहारा नहीं लिया, बिना किसी पार्टी के सहारे के बावजूद राजा भैया बड़े अंतर से चुनाव जीते आ रहे हैं ।

बताया जाता है कि जिस तरीके से इलाके में राजा भैया के नाम का डंका बजता है उसी तरह उन्होंने राजनीति में भी अपना जलवा बरकरार रखा है राजा भैया एक समय पर तेजतर्रार छवि के चलते तूफान सिंह के नाम से भी जाने जाते थे।

अपने परिवार के पहले सदस्य थे उसने राजनीति में कदम रखा

रघुराज प्रताप सिंह यानी राजा भैया का जन्म 31 अक्टूबर 9667 में प्रतापगढ़ के भदरी रियासत में हुआ था इनके पिता का नाम उदय प्रताप सिंह और माता का नाम मंजुल राजे है इनके दादा राजा बजरंग बहादुर सिंह स्वतंत्रता संग्राम सेनानी और हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल भी रहे हैं इनकी माता मंजुल राजे भी एक शाही परिवार की हैं, राजा भैया अपने परिवार के ऐसे पहले सदस्य थे जिन्होंने पहली बार राजनीतिक क्षेत्र में प्रवेश किया रघुराज प्रताप सिंह का विवाह बस्ती रियासत की राजकुमारी भानवी देवी से हुआ इनके दो पुत्र शिवराज और ब्रजराज दो पुत्रियां राधवी और बृजेश्वरी है।

5 बार रहे विधायक

राजा भैया कुंडा विधानसभा क्षेत्र से लगातार पांच बार विधायक रहे हैं 1993 से लेकर अब तक वह अजय हैं उन्होंने अपना पहला चुनाव 26 साल की उम्र में लड़ा और जीते भी,राजा भैया से पहले कुंडा की विधानसभा सीट पर कांग्रेस के नियाज हंस का कब्जा रहता था।

यह भी पढ़ें : कोरोना : पिछले 24 घंटे में रिकॉर्ड 29429 नए मामले आए सामने , 582 लोगों की गई जान

राजा भैया 1993 ऑनलाइन 96 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी समर्थक बनके तो 2002 और 2007,2012 के चुनाव में एसपी समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में विधायक बन चुके हैं, राजा भैया बीजेपी की कल्याण सिंह सरकार और एसपी की मुलायम सिंह सरकार में भी मंत्री बने थे,राजा भैया को 1997 में भारतीय जनता पार्टी के कल्याण सिंह के मंत्रीमंडल में कैबिनेट मंत्री, वर्ष 1999 व 2000 में राम प्रकाश गुप्ता और राजनाथ सिंह के कैबिनेट में खेल कूद एंव युवा कल्याण मंत्री बनाया गया। साल 2004 मे समाजवादी पार्टी के मुलायम सिंह यादव की सरकार मे रघुराज प्रताप खाद्य एवं रसद विभाग के मंत्री बने।

You can share this post!

0 Comments

Leave Comments