news-details
analysis

जानें कौन हैं आईपीएस चारू निगम, ऐसे छलके थे उनकी आंखों से बहादुरी के आंसू

मेरे इन आंसुओं को कमजोरी न समझो ,जी हां, यह बोल किसी और के नहीं बल्कि लेडी सिंघम के नाम से मशहूर  आईपीएस चारू निगम के है। मेरे आंसुओं को कमजोरी ना समझो इसकी भी पूरी कहानी बताएंगे उससे पहले आप जान लीजिए कि आखिर चारु निगम हैं कौन हैं 

जानें कौन हैं आईपीएस चारू निगम 
बता दें कि चारू निगम एक आईपीएस अफसर है जिनका जन्म 4 जून 1986 को  लाते M.S निगम के घर हुआ था जो मूल रुप से आगरा की रहने वाली है लेकिन इन्होंने नई दिल्ली में रहकर अपनी प्रारंभिक शिक्षा प्रारंभ कि थी।  आईपीएस चारू निगम लेडी सिंघम के नाम से जानी जाती है चारु निगम यहां तक कैसे पहुंची इसकी भी पूरी दास्तां आपको हम सुनाएंगे दरअसल चारु निगम बीटेक की पढ़ाई कर रही थी इसी दौरान उनको एक साथ में पढ़ने वाले लड़के से इश्क हो गया।

 लेकिन उनका यह इश्क परवान नहीं चढ़ सका , समाज और परिवारिक स्थित के चलते चारू निगम का ये  इश्क फेल हो गया , इसी को लेकर चारु निगम डिप्रेशन में आ गई थी,  जिसके बाद चारू निगम के पिता ने उन्हें सिविल सर्विसेज की तैयारी करने को कहा जिसके बाद 2010 में चारु निगम पहली सिविल सर्विसेज के एग्जाम में बैठी लेकिन उन्हें सफलता हाथ नहीं लगी ,, लेकिन जहां पर, चाह है वहां पर राह है, की तर्ज पर चारु निगम आईपीएस बनने का सपना देख रही थी। 

जिसके बाद उनका यह आईपीएस बनने का सपना ज्यादा दिन दूर नहीं रहा और 2013 में उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा पास की और आईपीएस में जाने का मन बना लिया कहा जाता है कि उनकी पहली पोस्टिंग 2014 में झांसी में हुई थी गौरतलब है कि चंबल जैसे खतरनाक जगह  पर एक अनुभभी आईपीएस जाने के लिए भी डरता है तो वहां आईपीएस चारू निगम ने खनन माफियाओं शराब माफियाओं तथा अवैध तस्करों के खिलाफ अभियान चलाकर उनके उपर ताबड़तोड़ कार्यवाही की, जिसके बाद अवैध खनन करने वाले खनन माफियाओं शराब माफियाओं तथा अवैध तस्करों में हड़कंप मच गया। 

जब छलक पड़े आँखों से आंसू 
आईपीएस चारू निगम गोरखपुर में भी तैनात रही। गोरखपुर में भी आईपीएस चारू निगम ने ताबड़तोड़ कार्यवाही की इसी कार्यवाही के चलते क्षेत्र की जनता में तो अपनी जगह बना ही ली थी लेकिन वहां के क्षेत्रीय नेताओं ने उनका विरोध भी किया कहा जाता है कि गोरखपुर में बीजेपी के विधायक राधा मोहन दास ने पब्लिक प्लेस पर चारू निगम को खूब बेइज्जत किया जिसके चलते हैं उनकी आंखों में आंसू आ गए जिस पर उन्होंने विधायक से कहा कि मेरे इन आंसुओं को कमजोरी न समझें। .

लगा झूठा आरोप 
आईपीएस चारू निगम के साथ यह सिलसिला यहीं नहीं रुका आगे और ज्यादा बढ़ता चला गया  बीजेपी के एक और प्रत्याशी ने चारु निगम पर आरोप लगाया कि आईपीएस चारू निगम किसी विशेष पार्टी के लिए काम कर रही हैं मेरा नुकसान हो रहा है। बीजेपी प्रत्याशी का भी वीडियो काफी तेजी के साथ वायरल हुआ था जिसमें बीजेपी प्रत्याशी उपेंद्र शुक्ला साफ तौर पर आईपीएस चारू निगम से कह रहे हैं की एक्शन में मत दिखो बहुत महंगा पड़ जाएगा,। 

फिलहाल इस समय आईपीएस चारू निगम लखनऊ में डीसीपी पूर्वी की कमान संभाल रही है फिलहाल चारु निगम के सामने चुनौतियां कम नहीं है जैसे देखा जा रहा है कि गोमतीनगर थाने में साइंस सिटी जैसी फ्रॉड कंपनियों के करीब 200 मुकदमे दर्ज हैं तो वही आईपीएस चारू निगम को इन मामलों को गंभीरता से लेने के बाद ट्राफिक जैसी भी समस्याओं को लेकर काफी बड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ा  

आपको बता दें आईपीएस चारू निगम अपनी हंसी के लिए भी काफी मशहूर है एक समय था कि आईपीएस चारू निगम ज्यादा हसने के चलते डांट खाने से लेकर कॉलेज में सजा तक पा चुकी हैं फिलहाल आईपीएस चारू निगम फ्री टाइम में हॉर्स राइडिंग तथा कुकिंग किया करती हैं। आईपीएस चारू निगम की फैमिली में अधिकतर इंजीनियर है और साधारण सुलझे हुए परिवार में गिनती है। इसी दौरान आपको एक जानकारी और देते चले कि आईपीएस चारू निगम उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की विशेष अधिकारियों में से हैं योगी आदित्यनाथ ने आईपीएस चारू निगम पर जिम्मेदारी देते  हुए एंटी रोमियो एस्कॉर्ट के प्रमुख अधिकारियों की टीम में रखा था जहां उनकी अहम जगह थी। 

You can share this post!

0 Comments

Leave Comments