news-details
news

पीएम मोदी ने जारी किया 75 रुपये का सिक्का, कहा- भारत ने कुपोषण के खिलाफ लड़ाई को करीब से देखा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर शुक्रवार को 75 रुपये का स्मृति सिक्का जारी किया है। इसके अलावा उन्होंने हाल ही में विकसित की गई आठ फसलों की 17 जैव संवर्धित किस्मों को भी राष्ट्र को समर्पित कर दिया।

यह भी पढ़ें : कोरोना : आंकड़ों में आई कमी, पिछले 24 घंटे में सामने आए 63371 नए मामले

संबोधन में क्या कहा पीएम मोदी ने 
कुपोषण के खिलाफ जंग में इनका योगदान
वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए आयोजित कार्यक्रम के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि भारत के हमारे किसान साथी, हमारे अन्नदाता, हमारे कृषि वैज्ञानिक, हमारे आंगनबाड़ी-आशा कार्यकर्ता, कुपोषण के खिलाफ आंदोलन का आधार हैं. इन सभी के प्रयासों से ही भारत कोरोना वायरस के इस संकटकाल में भी कुपोषण के खिलाफ मजबूत लड़ाई लड़ रहा है. इन्होंने अपने परिश्रम से जहां भारत का अन्न भंडार भर रखा है, वहीं दूर-सुदूर, गरीब से गरीब तक पहुंचने में ये सरकार की मदद भी कर रहे हैं.

कुपोषण से निपटने में हो रहा महत्वपूर्ण काम
प्रधानमंत्री ने कहा कि कुपोषण से निपटने के लिए एक और महत्वपूर्ण दिशा में काम हो रहा है. देश में ऐसी फसलों को बढ़ावा दिया जा रहा है, जिसमें पौष्टिक पदार्थ- जैसे प्रोटीन, आयरन, जिंक इत्यादि ज्यादा होते हैं. यह कार्यक्रम सरकार द्वारा कृषि और पोषण क्षेत्र को दी गई सर्वोच्च प्राथमिकता को समर्पित है और साथ ही भूख, अल्पपोषण और कुपोषण को पूरी तरह से खत्म करने के सरकार के संकल्प को परिलक्षित करता है। 

नोबेल शांति पुरस्कार बड़ी उपलब्धि
प्रधानमंत्री ने विश्व खाद्य कार्यक्रम (डब्ल्यूएफपी) को 2020 के नोबेल शांति पुरस्कार से नवाजे जाने का जिक्र करते हुए इसमें भारत के योगदान का उल्लेख किया. उन्होंने इसमें भारत के प्रशासनिक सेवा अधिकारी बिनय रंजन सेन की भूमिका से सबको अवगत कराया. 

यह भी पढ़ें : महबूबा मुफ्ती के रिहा होते ही कश्मीर में राजनीतिक हलचलें तेज

सेन ने एफओए के महानिदेशक के रूप में 1956 से 1967 तक काम किया था. सेन के कार्यकाल के दौरान ही विश्व खाद्य कार्यक्रम की स्थापना की गई थी. उन्होंने कहा, "एफएओ के विश्व खाद्य कार्यक्रम को इस वर्ष का नोबेल शांति पुरस्कार मिलना भी एक बड़ी उपलब्धि है और भारत को खुशी है कि इसमें भी हमारी साझेदारी और हमारा जुड़ाव ऐतिहासिक रहा है."  

You can share this post!

0 Comments

Leave Comments