news-details
news

जल्द खरीद लेंFASTag , 15 फरवरी से भरना पड़ेगा अधिक शुल्क

देश में 15 फरवरी से FASTag अनिवार्य हो रहा है। सरकार फास्टैग पर अब और रियायत देने के मूड में नहीं है। इसलिए अब फास्टैग लागू करने की अंतिम तारीख भी नहीं बढ़ाई जाएगी। सड़क एवं परिवहन मंत्रालय के मुताबिक जिन वाहनों पर FASTag नहीं लगा है उनसे 15 फरवरी से अतिरिक्त शुल्क वसूला जाएगा। 

यह भी पढ़ें : लखनऊ: कमांड अस्पताल के भूमि पूजन में शामिल हुए रक्षामंत्री व मुख्यमंत्री योगी

दिन देखते देखते बीत जाते हैं। ऐसे में 15 फरवरी को आने में ज्यादा दिन नहीं लगेंगे। और फिर आपको फास्टैग खरीदने के लिए इस जगहों पर लंबी कतारें मिल सकती हैं। लेकिन अगर आपने वाहन के लिए फास्टैग नहीं लिया है तो उसे घर बैठे ऑनलाइन भी मंगवा सकते हैं। 

यहां से खरीदें फास्टैग
भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के अनुसार फास्टैग को सरकारी बैंक, निजी बैंक, पोस्ट ऑफिस, आरटीओ ऑफिस,  ई-कॉमर्स वेबसाइट अमेजन, फ्लिपकार्ट, स्नैपडील और पेटीएम से खरीदा जा सकता है। पेट्रोल पंप से भी फास्टैग को खरीदा जा सकता है। बैंक से फास्टैग लेते समय इस बात का ध्यान रखें कि जिस बैंक में आपका खाता हो उसी से फास्टैग खरीदें। 

फास्टैग की कीमत
एनएचएआई के अनुसार आप फास्टैग को किसी भी बैंक से 200 रुपये में खरीद सकते हैं। फास्टैग को आप कम से कम 100 रुपये से रिचार्ज करवा सकते हैं। सरकार ने बैंक और पेमेंट वॉलेट से रिचार्ज पर अपनी तरफ से कुछ अतिरिक्त चार्ज लगाने की छूट दी हुई है। 

15 फरवरी तक नकदी भुगतान
बता दें कि सरकार फास्टैग को लागू करने की समय-सीमा कई बार बढ़ा चुकी है। वाहन मालिकों को थोड़ी राहत देते हुए देशभर में सभी चार पहिया वाहनों के लिए फास्टैग की डेडलाइन 15 फरवरी 2021 तक बढ़ाई गई है। इससे पहले NHAI की ओर से कहा गया था कि एक जनवरी से नगदी टोल कलेक्शन बंद हो जाएगा। लेकिन इसकी समयसीमा बढ़ाई गई है। 

मंत्रालय के आदेश के मुताबिक फिलहाल राष्ट्रीय राजमार्गों पर टोल प्लाजा की हाइब्रिड लेन में 15 फरवरी तक फास्टैग या नकद माध्यम से भुगतान किया जा सकेगा। मंत्रालय ने कहा कि टोल प्लाजा की फास्टैग लेन में केवल फास्टैग के माध्यम से ही भुगतान स्वीकार किया जाएगा। 

2.20 करोड़ से ज्यादा FASTag आवंटित
फास्टैग को एक दिसंबर 2017 के बाद से नए चार पहिया वाहनों के लिए रजिस्ट्रेशन के समय ही अनिवार्य कर दिया गया था। इस पूरे फैसले को लागू करने के लिए सरकार ने केंद्रीय मोटर वाहन अधिनियम-1989 में संशोधन किया था। दिसंबर तक 2.20 करोड़ से ज्यादा फास्टैग आवंटित किए जा चुके हैं। एक्सपर्ट्स का मानना है कि कोविड-19 के कारण लोग कॉन्टैक्ट लेस ट्रांजेक्शन को ज्यादा पसंद कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें : लखनऊ : शादी का झांसा देकर युवती ने ऐंठे10 लाख रुपये

फास्टैग से टोल कलेक्शन बढ़ा
24 दिसंबर को पूरे देशभर में फास्टैग का बंपर ट्रांजेक्शन हुआ। नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने बताया कि नेशनल इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन (NETC) प्रोग्राम के तहत यह पहली बार था जब एक दिन में फास्टैग से 80 करोड़ रुपये से ज्यादा का टोल कलेक्शन हुआ। 24 दिसंबर 2020 को एक दिन में 50 लाख से ज्यादा का फास्टैग ट्रांजेक्शन हुए। 

You can share this post!

0 Comments

Leave Comments