news-details
politics

यूपी-उत्तराखंड में अकेले चुनाव लड़ेगी बसपा: मायावती

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री व बसपा सुप्रीमो मायावती ने अपने 65वें जन्मदिन पर बड़ा एलान किया है। उन्होंने अगले विधानसभा चुनाव अकेले ही लड़ने की घोषणा की है। इस दौरान उन्होंने कहा कि आगामी चुनाव में बहुजन समाज पार्टी की जीत तय है। 

यह भी पढ़ें : यूपी : 28 जनवरी को होगा विधान परिषद की 12 सीटों के लिए चुनाव 

इस दौरान मायवती ने कहा कि हमें गठबंधन से नुकसान होता है। बिहार में मायावती ने छोटी पार्टियों संग चुनावी तालमेल किया था। इस दौरान मायावती ने विपक्षी दलों पर भी हमला बोला। साथ ही केंद्र सरकार से दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलनरत किसानों की सभी मांगों को मानने की अपील की। 


बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के विधानसभा चुनाव में बहुजन समाज पार्टी अकेले अपने बलबूते पर चुनाव लड़ेगी और अपनी सरकार बनाएगी। 
मायावती ने कहा कि केंद्र सरकार से आग्रह करती हूं कि किसानों की सभी मांगों को मान लेना चाहिए जिसमें तीन कृषि क़ानूनों को वापस लेना विशेष है। किसान अपने हित और अहित को अच्छी तरह से समझते हैं। 

बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि देश में कल से शुरू हो रहे कोरोना टीकाकरण अभियान का बीएसपी स्वागत करती है। हमारी पार्टी का विशेष अनुरोध है कि केंद्र सरकार कोरोना वैक्सीन मुफ़्त में दे। अगर केंद्र सरकार हमारे इस अनुरोध को स्वीकार नहीं करती है तो सभी राज्य सरकारों को ये सुविधा मुफ़्त में देनी चाहिए। 

मायावती ने कहा कि अगर केंद्र और उत्तर प्रदेश की वर्तमान भाजपा सरकार यहां के आम लोगों को ये (कोरोना टीकाकरण) सुविधा मुफ़्त में नहीं देती तो इस बार यहां BSP की सरकार बनने पर ये सुविधा मुफ़्त में दी जाएगी। 

 इससे पहले मायावती ने गुरुवार की सुबह ट्वीट कर पार्टी समर्थकों का आह्वान किया कि वे लोग इस दिन को कोरोना महामारी के नियमों का पालन करते हुए पूरी सादगी से ‘जनकल्याणकारी दिवस‘ के रूप में मनाएं। 

यह भी पढ़ें : अखिलेश यादव का ऐलान, 2022 में सपा सरकार बनने पर वापस लिए जाएंगे CAA के खिलाफ प्रदर्शनकारियों पर दर्ज हुए मुकदमे

पीड़ितों, अति-ग़रीबों व असहायों आदि की अपने सामर्थ्य के अनुसार मदद भी करें। उन्होंने कहा है कि जन्मदिन पर वह स्वलिखित पुस्तक 'मेरे संघर्षमय जीवन एवं बीएसपी मूवमेन्ट का सफरनामा' भाग-16 व इसके अंग्रेजी संस्करण का विमोचन भी करेंगी। इसे पढ़कर स्वाभिमानी मूवमेन्ट को आगे बढ़ाने में काफी मदद मिलेगी।

You can share this post!

0 Comments

Leave Comments