news-details
politics

नीतीश आज लेंगे सीएम पद की शपथ, जानें कौन बनेगा उपमुख्यमंत्री 

बिहार की कमान एक बार फिर जदयू अध्यक्ष नीतीश कुमार के हाथ में होगी। एनडीए की रविवार को हुई बैठक में नीतीश कुमार को विधायक दल का नेता चुना गया। नीतीश राजभवन में सोमवार शाम 4:30 बजे 7वीं बार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। वहीं, उपमुख्यमंत्री पद को लेकर अभी पत्ते नहीं खोले गए हैं।\

यह भी पढ़ें : बिहार चुनाव में एनडीए ने मारी बाजी, फतह के ये हैं तीन कारण

इस रेस में शामिल कटिहार से विधायक तारकिशोर प्रसाद को भाजपा विधायक दल का नेता चुना गया है। वहीं, उपनेता के तौर पर बेतिया से विधायक रेणु देवी के नाम पर मुहर लगी है। तारकिशोर प्रसाद ने दो उपमुख्यमंत्री बनाए जाने के भी संकेत दिए हैं। वहीं, नीतीश के साथ अब तक उपमुख्यमंत्री रहे सुशील कुमार मोदी ने ट्वीट कर तारकिशोर और रेणु देवी को नई जिम्मेदारी के लिए बधाई दी है।

बैठक में पर्यवेक्षक के तौर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, बिहार में भाजपा के चुनाव प्रभारी देवेंद्र फडणवीस, बिहार भाजपा के प्रभारी भूपेंद्र यादव और केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय मौजूद रहे। राजनाथ सिंह ने सीएम के लिए नीतीश के नाम की घोषणा की। इस बीच नीतीश कुमार, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) के अध्यक्ष जीतनराम मांझी, विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) के मुखिया मुकेश सहनी और बिहार भाजपा अध्यक्ष संजय जायसवाल राजभवन पहुंचे और सरकार बनाने का दावा पेश किया।

नीतीश बोले- सब कुछ ठीक कर लिया जाएगा
नीतीश ने विधायकों का समर्थन पत्र राज्यपाल को सौंपा। नीतीश के साथ मंत्रिमंडल के कई और सदस्यों के भी शपथ लेने की चर्चा है। इनमें वीआईपी और हम घटक दल के भी एक-एक सदस्य मंत्री पद की शपथ लेने की बात कही जा रही है। इससे पहले डिप्टी सीएम पद को लेकर जब नीतीश कुमार से पूछा गया तो उन्होंने कहा, सब कुछ ठीक कर लिया जाएगा।

दो उपमुख्यमंत्री पर भाजपा कर रही विचार
यह पूछे जाने पर कि क्या बिहार में भाजपा के दो उपमुख्यमंत्री होंगे तो तारकिशोर प्रसाद ने कहा, 'पार्टी इस पर विचार कर रही है। हम पार्टी के निर्देशों का पालन करेंगे। मैं इस पर अभी टिप्पणी नहीं कर सकता। मुझे भाजपा विधायक दल के नेता की बड़ी जिम्मेदारी दी गई है और मैं अपनी पूरी क्षमता से कर्तव्य को निभाऊंगा।

यह भी पढ़ें : Bihar Election : क्या पीछे रह जाएंगे तेजस्वी ? नितीश फिर लगा सकते हैं चौका

नीतीश के राजभवन से लौटने के कुछ देर बाद ही राजनाथ सिंह और सुशील मोदी ने भी राज्यपाल से मुलाकात की, जिसने राज्य में सियासी अटकलों को और हवा दे दी। जब राजनाथ से इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, समय आने पर पता चल जाएगा। डिप्टी सीएम पद की रेस में गया टाउन से आठ बार विधायक रह चुके प्रेम कुमार और अयोध्या में 1990 के दशक में राममंदिर की नींव की ईंट रखने वाले दलित एमएलसी कामेश्वर चौपाल भी हैं।

विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद नीतीश बोले, मैं नहीं बनना चाहता था सीएम

एनडीए विधायक दल के नेता चुने जाने के बाद नीतीश कुमार ने कहा, मैं मुख्यमंत्री नहीं बनना चाहता था, लेकिन भाजपा नेताओं के आग्रह और निर्देश के बाद मैंने मुख्यमंत्री बनना स्वीकार किया। मैं तो चाहता था कि मुख्यमंत्री भाजपा का ही बने।

कार्यकर्ता का पद तो कोई नहीं छीन सकता: सुशील मोदी

भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने कहा कि भाजपा एवं संघ परिवार ने मुझे 40 वर्षों के राजनीतिक जीवन में इतना दिया कि शायद किसी दूसरे को नहीं मिला होगा। आगे भी जो जिम्मेदारी मिलेगी, उसका निर्वहन करूंगा। कार्यकर्ता का पद तो कोई छीन नहीं सकता।

You can share this post!

0 Comments

Leave Comments