news-details
sport

ऑस्ट्रेलिया दौरे पर गई टीम इंडिया के 13 खिलाड़ी अभी तक चोटिल

15 जनवरी से भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच बाॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी का आखिरी टेस्ट ब्रिस्बेन में खेला जाना है। इससे पहले टीम इंडिया के कई खिलाड़ी चोटिल हो चुके हैं तो कई चौथे टेस्ट से बाहर। चोटों से जूझ रही भारतीय क्रिकेट टीम को मंगलवार को एक और झटका लगा जब तेज गेंदबाजी आक्रमण के अगुआ जसप्रीत बुमराह पेट में खिंचाव के कारण ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चौथे टेस्ट से बाहर हो गए। इस वक्त टीम इंडिया में चोटिल खिलाड़ियों की फेहरिस्त लंबी है। लगभग एक दर्जन खिलाड़ी चोटिल हैं। आइए शुरू से शुरुआत करते हैं और एक नजर डालते हैं टीम इंडिया के 13 चोटिल खिलाड़ियों पर...

यह भी पढ़ें : पिता बने कप्तान विराट कोहली, अनुष्का ने दिया बेटी को जन्म

इशांत शर्मा 
चोटिल खिलाड़ियों सबसे पहले नाम आता है तेज गेंदबाज इशांत शर्मा का। आईपीएल के 13वें सीजन के दौरान बाजू में चोट लगी। इसके बाद वह ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए टीम में जगह नहीं बना सके। हाल ही में सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी घरेलू टूर्नामेंट के लिए उन्होंने प्रतिस्पर्धी क्रिकेट में वापसी की। इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट टीम उनका चयन लगभग तय माना जा रहा है।

भुवनेश्वर कुमार
सीमित ओवरों के विशेषज्ञ और टेस्ट टीम के रिजर्व तेज गेंदबाज भुवनेश्वर को आईपीएल मैच के दौरान हैमस्ट्रिंग चोट लगी। रिहैबिलिटेशन के कारण ऑस्ट्रेलिया दौरे से बाहर रहे। मुश्ताक अली ट्रॉफी के जरिए वापसी की। इंग्लैंड के खिलाफ चयन तय माना जा रहा है।

रोहित शर्मा 
टीम इंडिया के हिटमैन रोहित शर्मा भी आईपीएल के 13वें सीजन के दौरान चोटिल हो गए थे। हैमस्ट्रिंग की चोट के कारण उन्हें ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टी-20 और वन-डे सीरीज के लिए चयनित टीम से बाहर कर दिया था। हालांकि, चार मैचों की टेस्ट सीरीज के शुरुआती दो मैचों में उन्होंने नहीं खेला। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे टेस्ट में उनकी वापसी हुई। 

उमेश यादव
मेलबर्न टेस्ट के तीसरे दिन उमेश यादव पिंडली में चोट के चलते सीरीज से बाहर हुए थे। उमेश तीसरे दिन दूसरी पारी में गेंदबाजी करने आए। इस दौरान वह अच्छी लय में नजर आ रहे थे। उन्होंने अपने दूसरे ओवर में ओपनर जो बर्न्स को आउट किया लेकिन फिर चौथे ओवर में उन्हें पिंडली की मांसपेशियों में दर्द शुरू हो गया। इसके बाद उन्हें स्कैन के लिए अस्पताल भेजा गया जिसके बाद वह भी सीरीज के बाकी मैचों से बाहर हो गए। उनकी जगह बाएं हाथ के तेज गेंदबाज टी नटराजन को टीम इंडिया में शामिल किया गया। 

मोहम्मद शमी
टीम इंडिया के अनुभवी तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज में भारतीय गेंदबाजी का मुख्य हथियार माना जा रहा था। शमी एडिलेड में खेले गए पहले टेस्ट में बल्लेबाजी के दौरान चोटिल हो गए। दूसरी पारी में 11वें नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे शमी पैट कमिंस की गेंद पर चोटिल हो गए। कमिंस की शॉर्ट गेंद उनके कोहनी में लगी जिसके बाद स्कैन में उनका फ्रैक्चर निकला। इसके बाद शमी पूरी सीरीज से बाहर हो गए।

केएल राहुल
टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज केएल राहुल हालांकि टेस्ट सीरीज में एक भी मैच नहीं खेल पाए। लेकिन ऐसे उम्मीद की जा रही थी कि उन्हें आखिरी के मैचों में मौके मिल सकते थे। लेकिन इससे पहले ही वह चोटिल हो गए। राहुल सिडनी टेस्ट से पहले नेट में प्रैक्टिस के दौरान चोटिल हो गए और स्वदेश लौट आए।

ऋषभ पंत
टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत सिडनी टेस्ट की पहली पारी में बल्लेबाजी के दौरान जख्मी हुए। उन्हें कमिंस की तेज गेंद कोहनी पर लगी जिसके बाद उन्हें स्कैन के लिए अस्पताल भेजा गया। पंत दूसरी पारी में विकेटकीपिंग के लिए नहीं उतर सके। हालांकि, उनकी रिपोर्ट सामने आई तो फ्रैक्चर तो नहीं थी। पांचवें दिन वह बल्लेबाजी करने उतरे और 118 गेंद में 97 रन बनाए।

रविंद्र जडेजा
भारतीय टीम के स्टार ऑलराउंडर रविंद्र जडेजा ने सिडनी टेस्ट की पहली पारी में शानदार गेंदबाजी करते हुए चार विकेट चटकाए, लेकिन इसके बाद बल्लेबाजी के दौरान स्टार्क की तेज गेंद उनके अंगूठे में लगी, इसके बावजूद उन्होंने बल्लेबाजी जारी रखी। वह 37 गेंदों में 28 रन बनाकर नाबाद रहे। पहली पारी के बाद वह असहज नजर आ रहे थे, फील्डिंग में उतरे और तुरंत अस्पताल भी चले गए, स्कैन की रिपोर्ट में सामने आया कि उनका अंगूठा बुरी तरह चोटिल हो चुका है और वह अगले दो-तीन हफ्ते के लिए क्रिकेट से दूर हो गए

हमुना विहारी
सिडनी टेस्ट ने नायक हमुना विहारी भी चोट के कारण सीरीज से बाहर हो गए हैं। इंग्लैंड के खिलाफ भी उनके खेलने पर संशय है। बीसीसीआई के एक सूत्र ने समाचार एजेंसी पीटीआई को इस बात की जानकारी दी है। सूत्र ने बताया कि विहारी अगले मैच तक फिट नहीं हो सकेंगे, जो 15 जनवरी से शुरू हो रहा है। एक सूत्र ने कहा, 'स्कैन की रिपोर्ट आने के बाद ही विहारी की चोट के बारे में पता चल सकेगा लेकिन ग्रेड वन चोट होने पर भी उसे चार सप्ताह बाहर रहना होगा और उसके बाद रिहैबिलिटेशन से गुजरना होगा। सिर्फ ब्रिस्बेन टेस्ट ही नहीं बल्कि इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू श्रृंखला से भी वह बाहर रह सकते हैं।'

मयंक अग्रवाल
इतना ही नहीं, ब्रिस्बेन में अंतिम एकादश में हनुमा विहारी के विकल्प माने जा रहे मयंक अग्रवाल को भी नेट पर बल्लेबाजी करते हुए हाथ में चोट लगी और उन्हें हेयरलाइन फ्रैक्चर हो सकता है। अग्रवाल के स्कैन में हालांकि फ्रैक्चर की जगह मामूली चोट का पता चलता है तो ऐसे में पृथ्वी तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी कर सकते हैं। अग्रवाल के स्कैन में हालांकि फ्रैक्चर की जगह मामूली चोट का पता चलता है तो ऐसे में पृथ्वी तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी कर सकते हैं और इसके बाद चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे और अग्रवाल का नंबर हो सकता है।

रविचंद्रन अश्विन
स्थिति और बदतर हो गई जब सिडनी टेस्ट के अंतिम दिन साढ़े तीन घंटे बल्लेबाजी के बाद रविचंद्रन अश्विन की पीठ की जकड़न की समस्या बढ़ गई जिससे भारत के पास अधिक विकल्प नहीं बचे हैं। अब उम्मीद की जा रही है कि दो टेस्ट खेलने वाले मोहम्मद सिराज भारतीय आक्रमण की अगुआई करेंगे और 15 जनवरी से शुरू हो रहे ब्रिसबेन टेस्ट में नवदीप सैनी, शार्दुल ठाकुर और टी नटराजन उनका साथ देंगे।

जसप्रीत बुमराह
टीम इंडिया के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह की भी चौथा टेस्ट खेलना संदिग्ध बताया जा रहा है। जानकारी के मुताबिक, बुमराह के स्कैन की रिपोर्ट में खिंचाव का पता चला है और भारतीय टीम प्रबंधन इंग्लैंड के खिलाफ चार टेस्ट की आगामी श्रृंखला को देखते हुए उनकी चोट के बढ़ने का जोखिम नहीं लेना चाहता। बीसीसीआई सूत्र ने पीटीआई को बताया, 'सिडनी में क्षेत्ररक्षण करते हुए जसप्रीत बुमराह के पेट में खिंचाव आ गया था। वह ब्रिसबेन टेस्ट से बाहर रहेगा लेकिन उसके इंग्लैंड के खिलाफ उपलब्ध रहने की उम्मीद है।' 

वरुण चक्रवर्ती 
आईपीएल की खोज कोलकाता नाइट राइडर्स के वरुण चक्रवर्ती भारतीय टी-20 टीम में चुने गए लेकिन पूर्व राष्ट्रीय चयन समिति के प्रमुख सुनील जोशी को उनके कंधे की चोट के बारे में पता नहीं था जिसकी वजह से वह दौरे से बाहर हो गए।

यह भी पढ़ें : INDvs AUS : टीम इंडिया ने महज 49 रनों में गंवाए आखिरी 6 विकेट

अब देखना यह होगा कि मुख्य खिलाड़ियों की अनुपलब्धता और लंबे निचले क्रम को देखते हुए भारत छह बल्लेबाजों और चार गेंदबाजों के साथ उतरने का फैसला करता है या नहीं। ऐसी स्थिति में ऋषभ पंत विकेटकीपर होंगे। अगर भारत पांच गेंदबाजों के साथ उतरने का फैसला करता है तो तेज गेंदबाजी आक्रमण का कुल अनुभव चार टेस्ट (सिराज- दो टेस्ट, सैनी- एक टेस्ट, ठाकुर- एक टेस्ट, नटराजन- कोई टेस्ट नहीं) मैच का होगा।

You can share this post!

0 Comments

Leave Comments